CM पुष्कर सिंह धामी रिकॉर्ड जीत के बाद नए तेवर में दिखेंगे! यूनिफॉर्म सिविल कोड के बाद लोकसभा चुनाव सहित इन मुद्दों पर होगा फोकस

सीएम पुष्कर सिंह धामी की चंपावत उपचुनाव में रिकॉर्ड जीत के साथ ही भाजपा में जश्न का माहौल है तो, कांग्रेस पूरी तरह से पस्त हो गई है। ऐतिहासिक जीत के साथ ही सीएम धामी के तेवर भी अलग होंगे।  यूनिफॉर्म सिविल कोड के बाद धामी सरकार पर चुनावी वायदों पर तेजी से अमल का दवाब होगा।

धामी सरकार को अगले साल नवंबर में निकाय चुनावों का सामना करना है, इसके बाद फिर लोकसभा चुनाव होने हैं। इसलिए इन अहम चुनावों में शानदार प्रदर्शन दोहराने के लिए सरकार आने वाले दिनों में बड़े निर्णय ले सकती है। प्रदेश में अब निकाय चुनावों के लिए सवा साल का ही समय बचा है, इसके बाद फिर लोकसभा के चुनाव होने हैं, इस कारण धामी सरकार के तेवरों में तेजी देखने को मिल सकती है।

मार्च में लगातार दूसरी बार विधानसभा में जीत दर्ज करने के बावजूद भाजपा सरकार को चम्पावत में अनचाहे उपचुनाव का सामना करना पड़ा।  इस कारण गत दो महीने मुख्यमंत्री सहित मंत्रियों की व्यस्तता भी चुनाव प्रबंधन में बढ़ गई थी। हालांकि इस बीच ही सरकार ने भाजपा के लिए बेहद अहम समान नागरिक संहिता के मुद्दे पर कमेटी का गठन करते हुए चुनावी वायदों पर अमल शुरू कर दिया है।

अब चम्पावत में मिली शानदार जीत के बाद सरकार नए जोश में नजर आ सकती है।  इसी के साथ शासन प्रशासन में व्यापक पैमाने पर बदलाव की भी संभावना है। धामी – दो सरकार में अभी सीमित स्तर पर ही अधिकारियों के तबादले हुए थे। इस कारण कई जिलों के जिलाधिकारी और पुलिस कप्तानों के तबादले हो सकते हैं।

साथ ही शासन में भी अधिकारियों की जिम्मेदारियां बदली जा सकती है। सीएम धामी जीरो टॉलरेंज पर फोकस करते हुए कड़े फैसले ले सकते हैं। सूत्रों की मानें तो कैबिनेट विस्तार पर विचार किया जा सकता है, तो आने वाले नौकरशाहों में बड़ा फेयरबदल भी हो सकता है।

सीएम पुष्कर सिंह धामी 55025 वोट से जीते
चम्पावत उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रिकॉर्ड 55025 वोट से धमाकेदार जीत दर्ज की है। धामी के पक्ष में एकतरफा वोटिंग में उन्होंने कांग्रेस समेत बाकी दो अन्य प्रत्याशियों की जमानत जब्त करा दी। धामी को कुल 58258 वोट मिल जबकि उनकी निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोड़ी को कुल 3233 वोट ही मिल सके।

बाकी दो प्रत्याशी हजार का आंकड़ा भी नहीं छू पाये। राज्य में अब तक हुए उपचुनाव में किसी मुख्यमंत्री की यह सबसे बड़ी जीत है। धामी ने पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के करीब 40 हजार वोट से जीत के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा है।  पहले राउंड का नतीजा करीब साढ़े आठ बजे आया।

सीएम धामी ने पहले राउंड से ही धमाकेदार शुरुआत की। इसमें उन्हें 3856, कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला को 164, सपा समर्थित मनोज कुमार भट्ट को 25, निर्दलीय हिमांशु गड़कोटी को 33 और 15 मतदाताओं ने नोटा का प्रयोग किया। सुबह करीब 10 बजे 13वें एवं अंतिम चक्र की मतगणना पूरी हुई।

रिटर्निंग अफसर/एसडीएम टनकपुर हिमांशु कफल्टिया ने बताया कि 31 मई को हुए उप चुनाव में कुल 61595 मतदाताओं ने वोट डाले थे। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को 13 चरणों में मतगणना पूरी होने के बाद भाजपा प्रत्याशी सीएम पुष्कर सिंह धामी को 58258, कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला को 3233, सपा समर्थित मनोज कुमार भट्ट को 409, निर्दलीय हिमांशु गड़कोटी को 399 और 373 मतदाताओं ने नोटा का इस्तेमाल किया।

परिणाम घोषित होने के बाद आरओ कफल्टिया ने सीएम धामी को चम्पावत सीट से जीत का प्रमाण पत्र सौंपा। उत्तराखंड में अभी तक हुए उपचुनाव में तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने सितारगंज सीट पर करीब 40 हजार वोट से अब तक की सबसे बड़ी जीत दर्ज की थी। आज आये चुनाव परिणाम में सीएम धामी ने बहुगुणा की जीत के उस रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ दिया है।

कुल वोटिंग का 94 फीसदी से अधिक धामी को मिला
चम्पावत उपचुनाव में शुक्रवार को सीएम धामी पर वोटों की जमकर बरसात हुई। उपचुनाव में कुल पड़े मतों का अकेले 94 प्रतिशत से अधिक मतदान भाजपा प्रत्याशी सीएम धामी के पक्ष में रहा। उन्हें कुल वोटिंग 61595 का 94 प्रतिशत से ज्यादा यानि 58258 वोट हासिल किये। कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोड़ी महज छह प्रतिशत वोट ही मिल पाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.