नार्को टेस्ट मामले में आरोपित पुलकित व सौरभ ने लिया यूटर्न, पढ़ें लेटेस्‍ट अपडेट

ऋषिकेश के वनंतरा रिसार्ट में कार्यरत युवती की हत्या के मामले में नार्को व पालीग्राफ टेस्ट करवाने की चल रही प्रक्रिया में आरोपित रिसार्ट स्वामी पुलकित आर्या व प्रबंधक सौरभ भास्कर ने यू-टर्न ले लिया है।

दोनों आरोपितों ने गुरुवार को अपने अधिवक्ता के माध्यम से न्यायिक मजिस्ट्रेट (प्रथम श्रेणी) कोटद्वार में प्रार्थनापत्र दाखिल किया। इस मामले में अब अगली सुनवाई तीन जनवरी को होगी।

नार्को व पालीग्राफ टेस्ट अलग-अलग प्रकृति के

आरोपितों ने कहा कि नार्को व पालीग्राफ टेस्ट अलग-अलग प्रकृति के हैं। विवेचक ने अपने प्रार्थनापत्र में यह स्पष्ट नहीं किया है कि उनको किस जानकारी को प्राप्त करने के लिए नार्को टेस्ट करवाना है और किस जानकारी के लिए पालीग्राफ टेस्ट करवाना है। या एक ही जानकारी के लिए दोनों टेस्ट करवाने हैं।

स्पष्ट जानकारी के अभाव से आरोपितों की ओर से इन टेस्ट के लिए सहमति या असहमति के लिए राय दिया जाना संभव नहीं है। पत्र में कहा गया है कि विवेचक ने अपने प्रार्थनापत्र में लिखा है कि आरोपित वीआइपी गेस्ट व आरोपित पुलकित आर्या के मोबाइल के संबंध में जानकारी छिपा रहे हैं।विवेचक ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि किसी आरोपित या सभी आरोपितों की ओर से क्या जानकारी छिपाई जा रही है, जिसके लिए टेस्ट करवाए जाने आवश्यक हैं। स्पष्ट जानकारी के अभाव में टेस्ट के लिए सहमति या असहमति के लिए राय दिया जाना संभव नहीं है।

महिला तस्करी पर केंद्र का सख्त कानून जल्द : शर्मा

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि केंद्र सरकार महिला तस्करी पर और सख्त कानून लाने की तैयारी कर रही है। जल्द ही इसे संसद में पेश किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अब महिला आयोग ने काम करने का तरीका बदला है। पहले केवल महिलाओं की शिकायतों पर काम होता था।

अब महिलाओं के सर्वांगीण विकास के लिए कार्य किया जा रहा है। इंटरनेट मीडिया के तेजी से बढ़ रहे उपयोग को भी उन्होंने वर्तमान दौर की चुनौती माना है। उन्होंने कहा कि विकृत मानसिकता वाले व्यक्ति इससे महिलाओं के प्रति अपराध करने के तरीके सीख रहे हैं।

गुरुवार को बीजापुर स्थित राज्य अतिथि गृह में राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि अभी तक राज्यों में महिला आयोग अधिकतर महिलाओं की शिकायतों पर ही कार्य कर रहे थे। अब इस परिपाटी को बदला गया है। आयोग के जरिये अब महिलाओं के स्वास्थ्य, शिक्षा, कौशल विकास व राजनीतिक सशक्तीकरण की दिशा में भी कार्य किया जा रहा है। जागरूकता कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के प्रति अपराध बढ़ने की बात कही जाती है। अब महिलाएं मुखर होकर अपनी बात कहती हैं। पहले महिलाएं अपने पर होने वाले अपराधों पर चुप्पी साध लेती थी। उनके मुखर होने से अधिक मुकदमें दर्ज होने लगे हैं। रेखा शर्मा के अनुसार यह भी देखने में आ रहा है कि महिलाओं के खिलाफ जघन्य किस्म के मामले बढ़ रहे हैं। अपराधियों ने अपराध करने के तरीके इंटरनेट मीडिया से सीखे हैं। यह एक बड़ी चुनौती भी है।

उन्होंने कहा कि देह व्‍यापार को सुप्रीम कोर्ट ने भी अवैध नहीं ठहराया है। इसमें काम करने वाली महिलाएं भी इसे व्यापार के रूप में देख रही हैं। जिन जगहों पर ये कार्य हो रहा है, अवैध हैं। पुलिस को चाहिए कि जब वह छापा मारती है तो वह देह व्‍यापार वर्कर को परेशान न करे बल्कि इनकी तस्करी करने वालों पर कार्रवाई करे।

अमेजन व फ्लिपकार्ट का समन

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ने बताया कि दिल्ली में एसिड अटैक के बाद सुप्रीम कोर्ट ने एसिड की बिक्री को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए थे। कई राज्यों ने इसकी बिक्री को लेकर गाइडलाइन जारी की है। इंटरनेट मीडिया पर ये आसानी से उपलब्ध हैं। इसे देखते हुए फ्लिपकार्ट व अमेजन को नोटिस भेजा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.