उत्तराखंड में नाइट कर्फ्यू खत्म या रहेगा जारी,कोविड को लेकर नई गाइडलाइन

उत्तराखंड में कोविड केसों के बीच सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है। कोरोना केसों में कमी को ध्यान में रखते हुए उत्तराखंड सरकार ने नाइट कर्फ्यू हटा दिया है। नई गाइडलाइन के तहत, विवाह, सांस्कृतिक समारोह भी अब पूरी क्षमता के साथ हो सकेंगे। इसी के साथ ही जिम, शॉपिंग मॉल, सिनेमा हाल, सैलून को पूरी क्षमता के साथ संचालन करने की अनुमति दे दी गई है। मुख्य सचिव एसएस संधू की ओर से बुधवार को नई गाइडलाइन जारी की है।

उत्तराखंड में कोरोनो केसों की रफ्तार में कमी जरूर हुई है, लेकिन सरकार अभी कोई ज्यादा ढिलाई देने के मूड में नहीं दिख रही है। चुनावी प्रचार खत्म होने के बावजूद सरकार ने सख्ती बनाई रखी है। प्रदेश में राजनैतिक रैलियों सहित धरना प्रदर्शन पर  फिलहाल 28 फरवरी तक रोक जारी रहेगी। सरकार की नई एसओपी के अनुसार, प्रदेशभर में आंगनबाड़ी केंद्र एक मार्च से खुल सकेंगे।

वहीं, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य में कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री धामी ने बुधवार को सचिवालय में अधिकारियों के साथ कोविड की वर्तमान स्थिति की समीक्षा बैठक की। धामी ने कहा कि राज्य में कोविड माहमारी की स्थिति फिलहाल नियंत्रण में है, लेकिन इसके वाबजूद संक्रमण को हल्के में न लिया जाए।

अधिकारियों को मुख्यमंत्री ने कोविड नियंत्रण के लिए उठाए गए कदमों की समीक्षा करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने सभी से मास्क,सेनिटाइजर व दो गज दूरी के कोविड रोकथाम संबंधी नियमों का पालन करते रहने की अपील की। आपको बता दें कि उत्तराखंड में मंगलवार को कोरोना के 285 नए मरीज मिले और सात संक्रमितों की मौत हो गई। 1309 मरीजों को इलाज के बाद डिस्चार्ज किया गया जिससे राज्य में एक्टिव मरीजों की संख्या 5217 हो गई है।

स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार मंगलवार को अल्मोड़ा में 34, बागेश्वर में 6, चमोली में 50, चम्पावत में आठ, देहरादून में 86, हरिद्वार में 22, नैनीताल में 18, पौड़ी में नौ, पिथौरागढ़ में 7, रुद्रप्रयाग में पांच, टिहरी में 13, यूएस नगर में 21 और उत्तरकाशी जिले में छह नए संक्रमित मिले हैं। मंगलवार को देहरादून जिले के अलग-अलग अस्पतालों में सात मरीजों की मौत हो गई। इसके साथ ही राज्य में कोरोना की तीसरी लहर में मरने वालों की संख्या 242 हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.