बिजली कटाैती से मिल सकती है राहत, यूजेवीएनएल का रिकॉर्ड उत्पादन,जानें मांग-उपलब्धता

उत्तराखंड में गहराए बिजली संकट के बीच उत्तराखंड जल विद्युत निगम लिमिटेड ने इस साल रिकॉर्ड बिजली उत्पादन का दावा किया है। निगम का दावा है कि इस साल उसने 4800 मिलियन यूनिट के लक्ष्य की तुलना में 5157.27 एमयू बिजली पैदा की है।  बिजली की मांग और उपलब्धता में भी 11 मिलियन यूनिट तक का अंतर पहुंच गया है।

यूपीसीएल की बिजली की मांग 42.5 मिलियन यूनिट प्रतिदिन पहुंच गई है। जबकि यूपीसीएल को राज्य, केंद्र समेत अन्य स्रोतों से सिर्फ 31.5 मिलियन यूनिट ही बिजली मिल रही है। एमडी यूजेवीएनएल संदीप सिंघल ने बताया कि इस बार लक्ष्य से रिकॉर्ड 357 मिलियन यूनिट बिजली अधिक पैदा की गई है।

ये बिजली उत्पादन निगम की स्थापना के बाद से अभी तक का न्यूनतम पर्यावरणीय प्रवाह छोड़ते हुए यह सर्वाधिक वार्षिक बिजली उत्पादन भी है। इससे पहले 2019-20 में सर्वाधिक बिजली उत्पादन 5088.88 एमयू रहा। न्यूनतम ई फ्लो के तहत हर बांध और बैराज से न्यूनतम जल बहाव को छोड़ना अनिवार्य है।

निगम का दावा है कि यदि न्यूनतम ई फ्लो की बाध्यता न होती, तो इस वर्ष उत्पादन निगम का सर्वाधिक बिजली उत्पादन होता। एमडी ने कहा कि कोरोना महामारी के बावजूद विपरीत परिस्थितियों के बाद भी रिकॉर्ड बिजली उत्पादन किया गया है। इसका श्रेय उन्होंने निगम कर्मचारियों और अधिकारियों को दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.