केदारनाथ-बदरीनाथ धाम में बर्फबारी के बाद गिरा पारा,यात्रियों के लिए जलाए अलाव

केदारनाथ और बदरीनाथ में लगातार दूसरे दिन मौसम खराब रहा। बदरीनाथ की चोटियों पर रविवार को बर्फबारी और धाम में बारिश हुई जबकि, केदारनाथ में दोपहर तक बारिश के बाद बर्फबारी हुई। हालांकि, केदारनाथ धाम में बर्फ टिकी नहीं। कड़ाके की सर्दी को देखते हुए तीन स्थानों पर अलाव जलाए गए।

उधर, बदरीनाथ में खराब मौसम के बीच रविवार शाम तक 13,718 लोगों ने बदरी विशाल के दर्शन किए। मसूरी और चकराता में भी रविवार को बारिश के बाद मौसम सुहावना हो गया। पिथौरागढ़ में भारी बारिश के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। मुनस्यारी में भारी ओलावृष्टि से आलू-गेहूं की फसल बर्बाद हो गई जबकि अल्मोड़ा-बागेश्वर में भी बारिश हुई।

मौसम विभाग ने सोमवार को पूरे राज्य में बारिश और ओलावृष्टि की आशंका जताई है। कुमाऊं मंडल के लिए कहीं-कहीं भारी बारिश की चेतावनी दी है। मौसम विभाग ने बताया कि मैदानी और पर्वतीय इलाकों में कहीं-कहीं 70 से 90 किमी प्रति घंटा की गति से हवाएं चल सकती हैं।

24 मई को राज्य में हल्की बारिश की संभावना है। कुमाऊं में कहीं-कहीं गर्जन के साथ ओलावृष्टि हो सकती है। इसे लेकर मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है। 25 और 26 मई को भी बारिश के आसार हैं।

खराब मौसम की वजह से यात्रा पर लगा ब्रेक
उत्तराखंड में खराब मौसम की वजह से यात्रा पर कुछ घंटों के लिए ब्रेक लगा। हालांकि, मौसम खुलते ही यात्रा दोबारा शुरू हो गई। केदारनाथ, बदरीनाथ सहित चारों धामों में खराब मौसम की वजह से तीर्थ यात्रियों को सुरक्षति स्थान पर रोक दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.