24 जून को नामांकन दाखिल कर सकती हैं राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू, पीएम मोदी बनेंगे पहले प्रस्तावक?

भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के 24 जून को नामांकन दाखिल करने की संभावना है। इस दौरान उनके साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित एनडीए के शीर्ष नेताओं के शामिल होने की उम्मीद है। सूत्रों के मुताबिक नामांकन के दौरान लगभग सभी केंद्रीय मंत्री, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और मुर्मू की उम्मीदवारी का समर्थन करने वाले बीजू जनता दल (बीजद) जैसे दलों के प्रमुख नेता भी मौजूद रहेंगे ताकि राजग उम्मीदवार के प्रति व्यापक समर्थन का संदेश जाए। सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी राजग उम्मीदवार मुर्मू के पहले प्रस्तावक हो सकते हैं। राष्ट्रपति चुनाव में किसी उम्मीदवार को 50 प्रस्तावकों और 50 अनुमोदकों से हस्ताक्षरित नामांकन पत्र दाखिल करना होता है। भाजपा सूत्रों के मुताबिक मुर्मू चार नामांकन पत्र दाखिल करेंगी।

बता दें कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को अपने नामांकन के लिए 50 प्रस्तावकों और 50 अनुमोदकों की आवश्यकता होती है। भाजपा सूत्रों ने बताया कि मुर्मू के समर्थन में कम से कम चार सेट नामांकन दाखिल किए जा सकते हैं। निर्वाचन आयोग ने 16वें राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया के बारे में जानकारी देते हुए कहा था कि इस शीर्ष संवैधानिक पद के लिए चुनाव लड़ने की आकांक्षा रखने वाले किसी भी व्यक्ति को प्रस्तावक के तौर पर 50 सांसद, विधायक और अनुमोदक के तौर पर 50 अन्य की जरूरत होगी। इस कदम का उद्देश्य इस चुनाव से गैर गंभीर उम्मीदवारों को बाहर करना है।

द्रौपदी मुर्मू को मिलेगा बंपर समर्थन! नाम का ऐलान होने के बाद से अब तक 4 दलों का संकेत

इस संदर्भ में भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने भी मतदान प्रक्रिया में शामिल पार्टी नेताओं के साथ बैठक की है। वे मुर्मू के अभियान का नेतृत्व करने के लिए देश भर में यात्रा करेंगे। वह सांसदों और विधायकों से बने राष्ट्रपति निर्वाचक मंडल के सदस्यों तक पहुंचेंगी और अपने लिए समर्थन मांगेंगी।

भाजपा की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था, संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने झारखंड की पूर्व राज्यपाल और आदिवासी नेता द्रौपदी मुर्मू की उम्मीदवारी की घोषणा की थी। राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी दलों की ओर से संयुक्त उम्मीदवार के रूप में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को मैदान में उतारा गया है। इस चुनाव में यदि मुर्मू की जीत होती है तो वह देश की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति होंगी। 64 वर्षीय मुर्मू झारखंड की राज्यपाल रह चुकी हैं।

आंखें दान की हैं..दो बेटों और पति को खोया, ऐसी है द्रौपदी मुर्मू की कहानी

मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। विपक्षी उम्मीदवार के रूप में सिन्हा के नाम की घोषणा के बाद अगले राष्ट्रपति के निर्वाचन के लिए 18 जुलाई को मतदान होना अब तय माना जा रहा है। राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया जारी है। 29 जून नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि है। खबर है कि विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा 27 जून को अपना नामांदन दाखिल कर सकते हैं।

राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार घोषित होने पर आश्चर्यचकित हैं द्रौपदी मुर्मू, पटनायक बोले- ओडिशा के लिए गर्व का क्षण

हालांकि अगर आंकड़ों की बात करें तो वे मुर्मू के पक्ष में हैं, खासकर बीजद के समर्थन के बाद, यह लगभग तय है कि मुर्मू देश की अगली राष्ट्रपति हो सकती हैं। अब उम्मीद है कि वाईएसआर कांग्रेस और अन्नाद्रमुक जैसे कुछ अन्य क्षेत्रीय दल भी उनका समर्थन करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.